Meri Kalam Se

Just another weblog

10 Posts

121 comments

abhilasha shivhare gupta


Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.

Sort by:

हमारी संस्कृति व संस्कार – हमारा भ्रम

Posted On: 17 Jan, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 4.67 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

5 Comments

सपरिवार हुए शर्मसार…

Posted On: 17 May, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (10 votes, average: 4.30 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others मस्ती मालगाड़ी में

23 Comments

भेदभाव- स्त्री व पुरुष का…. सुझाव पत्र

Posted On: 8 May, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (8 votes, average: 4.88 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

38 Comments

भ्रष्टाचार… अस्वस्थ समाज का प्रतिबिम्ब

Posted On: 4 May, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

16 Comments

आभार… जागरण junction का…..

Posted On: 2 May, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

2 Comments

माँ…(On Mother’s Day)

Posted On: 30 Apr, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (7 votes, average: 4.57 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

14 Comments

वो अनूठा बचपन ….. भूली बिसरी यादें

Posted On: 26 Apr, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (8 votes, average: 4.13 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

12 Comments

मेरा अनुभव…. मातृत्व….

Posted On: 25 Apr, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

4 Comments

जंग भ्रष्टाचार की……मै अन्ना हूँ

Posted On: 25 Apr, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

5 Comments

children and disipline

Posted On: 24 Apr, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 4.67 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

2 Comments

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

अभिलाषा जी , सादर नमस्कार ! बहुत दिनों के के बाद आपको पढने को मिला है और एक सशक्त लेखन के साथ पढने को मिला है ! आपने जो लिखा है अपने नज़रिए से सही लिखा है लेकिन मुझे भारतीय संस्कृति पर शर्म नहीं गर्व होता है ! आपने अमेरिकन और ब्राजील की महिला के उदहारण दिए हैं ! और आपने उनको आधार मानकर ही भारतीय संस्क्रिति को ऐरा गैर समझ लिया ? आप उन्हीं महिलायों से पूछिए की अमेरिका में जब बच्चे गोलियों से स्कूल में अपने साथियों को भून देते हैं ये कहाँ की संस्कृति है ? अपनी पत्नी और पति को कपड़ों की तरह बदल देते हैं ये संस्कृति क्या है ? हमारे यहाँ ज्यादातर लोग अपनी माँ उअर बहन को देवी मानते हैं , उनके यहाँ महिला एक उपयोग की ही वास्तु है ! आप ये मत कहियेगा की वहां औरतें चाँद तक जा चुकी हैं ! हर समाज में कुछ न कुछ बुरे एलिमेंट्स होते हैं तो इसका मतलब ये नहीं की हमारी संस्कृति खराब है ? ब्राजील की महिला से भी एक सवाल करिए ! उनके यहाँ जो सालसा होता है क्या वो कपडे पहनकर नहीं हो सकता ? आजकल भारत में महाकुम्भ चल रहा है जिसमें १लख २० हज़ार विदेशी आने को हैं जिनमें से ८५ हज़ार मूलरूप से भारतीय भी नहीं हैं ! ये क्या दिखता है आपको ? हमारे यहाँ के लोग तो इंग्लैंड इसाई धर्म के किसी प्रोग्राम में इतनी संख्या में नहीं जाते ? क्या आपको नहीं लगता की विदेशी हमारी संस्कृति को अपना रहे हैं ? हमारी संस्कृति आज भी खराब नहीं है ! इसलिए इसका पॉजिटिव पहलु देखिये कुछ गलत लोगों को महिमामंडित मत करिए और इसकी अच्छैयान लोगों को बताइए ! आपके लेख की सराहना करता हूँ ! लेकिन आपकी , क्यूंकि आप विदेश में रहते हैं , इसलिए और भी जिम्मेदारी बन जाती है की आप अपनी संस्कृति का सही दर्शन लोगों को कराएं !

के द्वारा: yogi sarswat yogi sarswat

आदरणीय अभिलाषा जी, अमेरिका से आपके विचार जानकर प्रसन्नता हुई! आपने मोहन भगवत के बयान को उल्लेखित नहीं किया जो कहते हैं - बलात्कार भारत में कम इण्डिया में ज्यादा होते है! ये है हमारे भारतीय हिन्दू धर्म के संरक्षक! मैंने एक और अमेरिका में रहने वाले भारतीय से पूछा था-क्या अमेरिका में बलात्कार नही होते? उनका जवाब तो नहीं मिला. हाल ही में मैंने पढ़ा कि अमेरिका में भी बलात्कार खूब होते हैं! वहां के आंकड़े भी चौंकानेवाले हैं! बेशक हम आपकी बातों से बहुत हद तक सहमत हैं, पर सेक्स सम्बंधित खुले साइट्स क्या पाश्चात्य सभ्यता की देन नहीं हैं? हमें अपने देश की विकृत मनोवृत्ति पर शर्म जरूर है पर क्या यह पिछले दशकों में इनमे भारी वृद्धि हुई है, जिनका सम्बन्ध विदेशी सभ्यता का अन्धानुकरण नहीं है? कृपया जवाब जरूर दें ! अच्छे को अच्छा और बुरे को बुरा कहना आवश्यक है. हमारा संस्कार भौतिकता की वृद्धि के साथ विकृत होता जा रहा है, यह आप मानेंगी या नहीं? बस इतना ही ...

के द्वारा: jlsingh jlsingh

के द्वारा: Rajkamal Sharma Rajkamal Sharma

नमस्कार अभिलाषा जी / आपका शुरू का लेख पढ़कर लगा कि आप भारत की बसंत ऋतू का वर्णन कर रही हें / क्यों कि आप अमेरिका में हें तो ताज्जुब हुआ कि इतनी जल्दी इंडिया में भरी जेठ की गर्मी में बसंत / खैर जब सेव के बागीचे का जिक्र सुना तो अच्छा लगा कि आप अमेरिका में रह कर भी वसंत का मजा ले सकते हें / आप जिस अंदाज से लिखती हें वो एक दम सरल व् दक्ष लेखक का परिचायक हें / आपने हिन्दुस्तानी मानसिकता की बात की तो ये है ही ऐसी / मुफ्त का चन्दन घिस मेरे भाई वाली आदत शायद ही छूटे चाहे हम कहीं भी क्यों न हो / पर ये भी मानना पडेगा कि किसी भी देश में वहां अपने बनाने में हमारा जवाब नहीं / ये भी हमें विरासत में मिला हें / अच्छा वर्णन /इश्वर करे डैबी और आपके परिवार की दोस्ती दिन दुनी रात चोगुनी फले फूले व् भारत व् अमेरिका की दोस्ती में चार चाँद लगाए /

के द्वारा: satish3840 satish3840

संदीप जी!!!!!!!! जी हाँ ..मै इस बात से पूरी तरह सहमत हूँ की ये ऐसी समस्याए नहीं है, जिनका निवारण पलक झपकते या, चुटकी बजाते निकल आये.... ऐसे परिवर्तन के लिए पीढ़ी निकल जाती है...पर ऐसा भी नहीं है की असंभव है...... उदहारण के लिए, हमारे समाज में आज शिक्षा के प्रचार प्रसार की वजह से, गावो में न सही शहरों में तो "पर्दा प्रथा" काफी हदों तक ख़त्म हो गई... "सती प्रथा" जैसी बुराई भी ख़त्म हो गई.... "स्त्री शिक्षा" पर भी बहुत प्रोत्साहन मिला..आज लड़किया भी पढ़ लिख कर डॉक्टर और इंजिनियर बन रही है...वो भी विदेशो में जाकर अकेले रहकर जॉब कर रही है..... आपने पसंद का जीवन साथी ढूंढकर, ब्याह रचा रही है...आज कई माता पिता मिल जायेंगे जो एक बेटी के माता-पिता होने पर गर्व महसूस करते है...... ये सब परिवर्तन नहीं तो क्या है....???? इस सभी बुरइयो का अंत क्यों हो रहा ही...सिर्फ इसलिए की हमारे समाज की "मानसिकता" बदल रही है....और मानसिकता धीरे-धीरे ही बदलती है.... यदि हमें कन्या भ्रूण हत्या पर रोक लगानी है तो उसकी भी शुरुवात हमें आज से ही करनी होगी... "आज किये गए प्रयास हमारा कल सँवार सकते है"....आपने कहा..."Moreover, isn’t it in a bid to solve one problem, we create thousands new problems…..?’तो में कहना चाहूंगी की...यही ज़िन्दगी है मेरे दोस्त..... चलते रहन..बढ़ाते रहना...... हर नयी समस्यायों को हराकर आगे बढ़ना.... समस्या क्या है...आती रहती है, जाती रहती है.... .....उनसे क्या डरना... आने वाली समस्या , जिसका अभी अस्तित्व भी नहीं है..उससे डर कर बैठना बुस्दिली है.... यदि एक नदी में पानी थम जायेगा तो वह सड़ांध मारकर उपयोग करने योग्य नहीं रहेगा...लेकिन बहता रहेगा तो सदा ही स्वच्छ, व उपयोग करने योग्य रहेगा.... इसलिए हमें बढ़ते रहने है... न की जैसा है उसे वैसा ही छोड़ दे, वरना समाज भी उस थामे हुए पानी की तरह सड़ांध मरने लगेगा.....

के द्वारा: abhilasha shivhare gupta abhilasha shivhare gupta

आपने आमिर खान के प्रोग्राम में एक बात गौर की होगी....भ्रूण हत्या के समस्या का कारण खुद उस एपिसोड में ही मौजूद था..... गौरतलब ये है कि जिन महिलाओं के आमिर ने interview लिए, वो खुद इस समाज कि सताई हुई थी... उनमें से एक महिला डाक्टर थी... अब सोचिये उस माता-पिता के बारे में जिसने उसको पैदा किया होगा...बड़े लाड़ प्यार से पाला होगा...पढाया लिखाया..डाक्टर बनाया...और अंत में उन सब प्यार मुहब्बत कि भावनाओं को दरकिनार करके उसकी शादी ऐसे परिवार में कर दी जहाँ उसकी शिक्षा की,,या खुद उसकी कोई अहमियत नहीं.. एक महिला दिन में सास ससुर के लिए नौकरानी और रात में एक पति के लिए खिलौना.... ये सब देखकर एक माँ बाप के दिल में क्या बीतती होगी..अफ़सोस होता है ये देखकर!!!!!... ये सब देखकर माँ बाप यही सोचता है कि वो एक लड़की दुनिया में ना ही आये तो अच्छा है.... भ्रूण हत्या का ये एक महत्वपूर्ण कारण है... मैंने अपने उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश के कई मित्रो कि शादी में देखा है ...सास ससुर दामाद के पैर छूते हैं... यहाँ तक कि केवल दामाद के नहीं बल्कि लड़के परिवार के बहुत से अपने से छोटी उम्र के लोगों के....!!!!! लड़की वालों को झुक कर रहना पड़ता है.... really disgusting !!!!!!!!. अब ऐसी हालत में माँ बाप कभी कभी अपनी स्थिति के आधार पर एक बच्ची को इस दुनिया में आने से नहीं रोकेगा तो क्या करेगा ????? जिस बच्ची को इस दुनिया में हर पल तिल -तिल कर मरना है... पैसा तो इन सब मुद्दों के लिए बहुत बड़ा कारण है.... एक आदमी पाई-पाई एकत्र करता है और बाकि इधर उधर से कर्जा लेकर सब लड़की कि शादी में बतौर दहेज़ देता है....??? लड़की भी हाथ सी गयी.. पैसा भी हाथ से गया और रही इज्जत की बात तो वो भी लड़के वालों के सामने कुछ नहीं.!!!!!!! आपने एक बात और गौर कि होगी आने वाली नयी पीढ़ी कभी लड़की के नाम पर या उसकी जाति के आधार पर निर्धारित नहीं होती .... अब मैं ये सोचता हूँ इन समस्याओं को कौन बदलेगा... महिलाये खुद.!!!!!! अब अगर महिला अपनी शादी को जीवन का बहुत बड़ा मुद्दा बनायेंगी तो नहीं होगा...

के द्वारा: yogeshkumar yogeshkumar

Meditate upon this story....... "The Sufi Bayazid says this about himself: “I was a revolutionary when I was young and my only prayer to God was: “Lord, give me the energy to change the world.” “As I approached middle age and realized that helf my life was gone without my changing a single soul, I changed my prayer to: “Lord, give me the grace to change all those who come in contact with me. Just my family and friends, and I shall be content.” “Now that I am an old man and my days are numbered, my one prayer is, “Lord, give me the grace to change myself. If I had prayed for this right from the start I would not have wasted my life.” Albert Einstein ने कहीं कहा है....''बुद्धि के किसी खास स्तर पर अगर किसी समस्या का जन्म होता है तो बुद्धि के उसकी स्तर पर उसका समाधान नहीं हो सकता है.......'' मैंने इसी विषय पर पीछे लिखा......... 'Plus Ca Change, Plus C'est La Même Chose!' Ever since new government has been formed in UP, I have been wondering what change it will bring to the life of ordinary people in UP..? I always wonder whether change in government results in an improvement in situation? There is a French proverb plus ça change, plus c'est la même chose- the more things change, the more they stay the same. I don’t think the life of ordinary people will see any change in UP. There is no denial to the fact that it will bring some technical progress, but then the question is whether technical progress gets anywhere in the sense of increasing the delight and happiness of life. Moreover, isn’t it in a bid to solve one problem, we create thousands new problems…..?'

के द्वारा: follyofawiseman follyofawiseman

के द्वारा: sheetal sheetal

के द्वारा: sheetal sheetal

इसका समाधान सिर्फ हमारी सोच को बदलने से हो सकता है……..और थोड़ा हम बदल भी रहें है इन मामलों में…………आज महिला पुरुष में कोई खास अंतर नहीं रह गया है……………….. आनंद जी, आमिर ने अंत में यही कहा था जादू की छड़ी हम और आप हैं, मैंने भी अपने लेख में आत्मावलोकन की बात कही थी! जब तक हमारी सोच में परिवर्तन नहीं आयेगा कुछ नहीं होने वाला ! आमिर का कार्यक्रम एक बार झकझोड़ कर जगाने का काम कर रहा है.... अगर जगे रहें तो ठीक नहीं तो परिणाम भुगतने को तैयार रहें .... अभिलाषा जी की भी कुछ बाते--- करत करत अभ्यास से ..... और “नीयत से किये गए प्रयास ही उप्लब्ध्ही की कुंजी है”…. सराहनीय है .. करना हमें ही है वे तो सिर्फ जगाने का काम कर रहे हैं. धन्यवाद!

के द्वारा: jlsingh jlsingh

श्री संदीप जी...आपका लेख पढ़कर आपका नाम पता चल गया... हा,हा,हा,...सबसे पहले तो मै आपको बधाई देती हु आपका लेख "मैं और मेरी समस्या" के लिए.... क्या अंगारे उगले है आपने.... उम्मीद करती हु की ये अंगारे बुरइयो को ही जला कर राख करे .... क्या वेग है आपके विचारो का.... क्या उफान है आपकी सोच में.... शब्दों व विचारो के योद्धा है आप... आपके लेख पर दुसरे सभी मित्रो की मिलीजुली प्रतिक्रिया भी पढ़ी... मै आपके जैसी अंगार तो नहीं उगल सकती.....पर आपकी बात पर ( समस्या देश की नहीं व्यक्ति की होती है,) इतना ज़रूर कहना चाहूंगी की, व्यक्ति ही मिलकर समाज का निर्माण करते है, और ये समाज मिलकर देश का...इसलिए, यह सारे देश की क्या दुनिया की समस्या हुई, व्यक्तिगत नहीं.......और आप पिछले ५ हज़ार साल की बात कर रहे है.... यदि परिवर्तन के नज़रिए से देखा जाये तो पिछले ५ सालो में ही बहुत परवर्तन दिखाई देंगे...तो ५ हज़ार साल तो बहुर पुराणी बात है.... जो दिल परवर्तन चाहते है, उनकी आँखों को परवर्तन दिख जाते है.... मै यह नहीं कहती की लड़किया...लड़का बन जाये पर ये भी तो उचित नहीं है, की उन्हें एक बहू, बेटी, के रूप में प्रतार्नाये झेलनी पड़े... क्या वो स्वतंत्र नहीं रहना चाहती ..... मै समझती हुकी आप भी यही सोच रखते है..पर आपको तरीका गलत लग रहा है.... मरे हिसाब से जागरूकता और मानसिकता में परिवर्तन हमें इस समस्या से उबार सकती है...इसके अलावा यदि और कोई उपाय है तो कृपया उल्लेख कीजिये... इस दुनिया में... हर तरह के लोग होते है... किसी की रूह किसी से कांपती है तो किसी की कुछ और से... शायद आप आपनी स्वतंत्रता के खनन को बर्दाश्त नहीं कर सकते और आपकी कलम आतंकित हो उठती है...और मै सामाजिक बुरइयो को सुनकर या देखकर बर्दाश्त नहीं कर पाती और मेरी कलम वहां आतंकित हो उठती है..... यही फर्क है मेरी और आपकी सोच में. मै अपनी सोच से खुश हु और आप अपनी सोच से. कुछ लोग होते है.... जो हमेशा के परिवर्तन के लिए तैयार होते है और कुछ नहीं... आपके लेख से मुझे आपकी विचार धारा का पता चला और एहसास हुआ की आप अपनी स्वतंत्रता के आगे किसी की न चलने देंगे.... शायद इसलिए हमारा इस विषय पर चर्चा करना कतैह उचित नहीं है.... यह एक मित्र वत सन्देश है...इसे प्रतिद्वंदी सन्देश न समझे... धन्यवाद

के द्वारा: abhilasha shivhare gupta abhilasha shivhare gupta

आनंद जी..मई एक उधाहर प्रस्तुत करना चाहती हूँ.... जो बच्चा पढाई में होनहार है, वह ज़िन्दगी खुद ही सँवार लेगा....जो मंद बुद्धि है, वो शायद कुछ न कर पाए...किन्तु..... जो औसत है, उन्हें पढाई के प्रति जागरुक करके, या मेहनत करा के संवारा जा सकता है...ठीक उसी प्रकार, जो जागे है...वो तो खुद कुछ प्रयास करंगे... जो सोने वाले है, वो जाग कर भी कुछ नहीं करेंगे.....किन्तु.... जो कभी चैतन्य हुआ करते थे, पर किसी कारन से उनकी चेतना ख़त्म हो गई थी..उन्हें खुरेदाने से वो फिर आगे बढ़के प्रयासरत होएंगे.... और...हार मान लेने से अच्छा है, खेलकर हारो..... रही बात आमिर के ब्रांड और मार्केटिंग की.... तो ठीक है..उसमे कुछ गलत नहीं दीखता मुझे.... यदि वो पैसे के लिए भी यह शो कर रहे है है, तो उससे हमें कुछ फर्क नहीं पड़ता...पर मुद्दा तो सराहनीय है... समाज में सन्देश तो पहुँच ही गया.... असफलताओ से डरकर यदि हम कोशिश ही न करे तो या कारयता होगी.... बहुत बहुत धन्यवाद्.... आपकी टिपण्णी के लिए..... स्वस्थ discussion हमेशा समस्या का हल निकाल लेते है....

के द्वारा: abhilasha shivhare gupta abhilasha shivhare gupta

"बात है देश के जवलंत समस्याओ की…. " सबसे पहले तो मैं आपसे ये कहना चहुगा की समस्या देश की नहीं व्यक्ति की होती है,.....देश बस एक व्यभारिक सच है....इसीलिए.....पिछले 5 हजार साल से हम देश और समाज की समस्याओं का हल ढूंढ रहें है....पर हम तक सब कुछ वैसा का वैसा है....हमारा उदेश्य तो अच्छा है...लेकिन तरीका गलत है.....हम जो है उसको नज़र अंदाज़ कर जो नहीं है उसके पीछे लगे रहते है.......! "शयद आप बात की तह तक पहुचना ही नहीं चाहते….." मैंने कुछ पहले एक लेख 'मैं और मेरी समस्या' मैं चाहूँगा की आप उसे एक बार पढ़े...फिर हम बात की तह तक पहुँचने की कोशिश करेंगे..... http://follyofawiseman.jagranjunction.com/2012/04/01/%E0%A4%AE%E0%A5%88%E0%A4%82-%E0%A4%94%E0%A4%B0-%E0%A4%AE%E0%A5%87%E0%A4%B0%E0%A5%80-%E0%A4%B8%E0%A4%AE%E0%A4%B8%E0%A5%8D%E0%A4%AF%E0%A4%BE/

के द्वारा: follyofawiseman follyofawiseman

आदरणीय अभिलाषा जी, नमस्कार सबसे पहले तो मैं आपके द्वारा आमिर खान को कहे शब्दों के लिए कुछ कहना चाहूँगा जो अभी अभी मैंने आदरणीय जवाहर सर के ब्लॉग पर लिखा है....................वो इस प्रकार है … आज हम यह सिर्फ इस लिए क्यूँ कह रहें है की इसे आमिर खान दिखा रहें है…………..सोचने की बात यह है की निश्चय ही एक बड़े ब्रांड के द्वारा कुछ कहने का हम पर व्यापक प्रभाव पड़ता है ……….और एक सर्तक पहल देख उस व्यक्ति के प्रति इज्जत की भावना भी आती है………..किन्तु जब यह सुनने को मिलता है की वही व्यक्ति इन जैसे समाजिक कार्यों के प्रश्नों को भी जिसे वह इतने प्रभावी ढंग से उठा रहा है एक मोटी रकम से तौल रहा है और आज तक के सबसे ज्यादा पैसे लेने के रिकॉर्ड पर ज्यादा जोड़ दिया जा रहा है तब कहीं ना कहीं उस श्रधा में एक गिरावट आती है……….जवाना खराब है और जो दिखता है वही बिकता है…….और आमिर खान वही कर रहें है…….किन्तु चुकी यह एक सार्थक पहल है हमें इसे गंभीरता से लेना चाहिए…………..वैसे जिन्हें सचमुच में इन मुद्दों की परवाह है उन्हें जगाना नहीं पड़ता और जिन्हें जगाना पड़ता है वो जाग कर भी कुछ नहीं करने वाले………….आप देखते जाइए आगे क्या होता है………..इसे मेरा नकारात्मक पक्ष ना माना जाय ……..में बस एक सोच रख रहा हूँ……….. इसके अलावा आपके द्वारा जो तर्क दिए गएँ है वो पढने में तो बड़ा अच्छे लग रहें है किन्तु व्यवहार में आने में असमर्थ है क्यूंकि मेरा मानना है की इसका समाधान सिर्फ हमारी सोच को बदलने से हो सकता है........और थोड़ा हम बदल भी रहें है इन मामलों में............आज महिला पुरुष में कोई खास अंतर नहीं रह गया है.................... लेख के लिए बधाई

के द्वारा: ANAND PRAVIN ANAND PRAVIN

Miss Sheetal, you wrote " I respect your comments and views on this particular blog but i am sorry to say that i do not agree with you,..." but let me tell you I don't care whether people respect or not....I don't care much about respectability...and if you don't agree its fine what can I do about this... "if you dont mind could you please elaborate on your comment i am keen on knowing what are your thoughts about a women............" read this.... All These Girls Are Lesbian…! The other day, I happened to read an absurd ad-article, which was published on the first page of a prominent news paper. The heading of article was ‘No Shave, No lipstick. It was written there that more than 80% girls don’t like man with stubble or beard. And these women have started a movement which they are calling, ‘No Shave, No Lipstick Movement’. Many divas of bollywood have associated themselves with this ‘No Shave, No Lipstick Movement, they say that man look best when ‘clean-shaven’, and unless man shave daily, they won’t wear lipstick. I find this issue worth discussing, for I feel, in today’s time where relationship between man and woman are hitting the bottom rock every now and then, it would be worth while to make a conscious effort to understand the complexity of the matter which is accountable for more than 90% problems in the world. Here, I would like to shed light on two vital points, First, it might be shocking for you to know but, if you ask a psychologist, they would say, women with this sort of mindset (where they like well-groomed man), are either lesbian or sexually perverted, because knowingly or unknowingly, their unconscious interest is in the women only, They are not attracted in opposite sex, more or less, they are interested in the same sex. There are woman whom you would find behaving like man, they prefer to dress like man, and they chose the same career option which men chose. And, in it’s enthusiasm to out perform men, they adopt all kind of stupid things from man, they smoke, they drink and abuse. In addition to all these, they even start feeling and thinking like man. And, in long run, they become nothing but ‘A-Second-Grad-Man’. They think this पागलपन is growth, but, it is any thing but growth. In fact, it is degradation. Here, it will be helpful to know that, difference between man and woman is not of quality but of quantity. No man is absolutely man and vice versa. In every man something of woman exists and so is the case with woman. Second thing which I would like to bring to notice is, its not that only women think that man look best when clean-shaven; even most men (it would be right to call them Second-Grad-Woman) believe that they look their best when clean-shaven, and start decorating themselves like woman. This is really a neurotic society; here a woman is respected and accepted only when she becomes ‘Second-Grad-Man’. And this ‘पागलपन’ is known as women-emancipation-movement. In a healthy society, woman would be respected as woman; they would be loved and cared as they are. A woman should grow as woman, because only then, she can flower, and have satisfaction in life. Woman and man should look as different as possible, but yes, there should not be any discrimination, they both are ultimate manifestation of nature, nobody is lesser or higher. In the name of change, we are killing the beauty of life. No change is needed, only growth is required. What we do in the name of change..., we just shift prisoners from one jail to another. Healthy mind is attracted to opposite only. Attraction is always between to opposite poles. Man and woman both are beautiful; there is no need for a woman to be like man. Why should they…? What is lacking in them….? Last thing, who tells these ugly women to color their lips with lipstick…... to have natural read-lips, is one thing, but to color them with lipstick is sick, only sick woman does so. At the end, I would like to repeat......, those women who are interested in clean-shaven man are Lesbian, and those men who are interested in these Second-Grad-Woman, are Gay..!

के द्वारा: follyofawiseman follyofawiseman

नमस्ते योगेश जी... बहुत खूब कहा आपने..."अगर महिलाएं पुरुषों के साथ कदम से कदम मिला कर चलना चाहती हैं तो उन्हें भी घरकी जिम्मेदारी उतनी ही शिद्दत से उठानी चाहिए… उस हालत में तो और भी जब की वे अपने माता पिता का एकमात्र सहारा हैं" …... इसी बात पर मै भी प्रकाश डालना चाहती हूँ, की आखिर हमारे समाज में ऐसी संस्कृति बनी ही क्यों, की बेटी के घर एक गिलास पानी पीना भी पाप है.... समाज में इन जिम्मेदारियों को बेटा या बेटी के बीच विभाजित किया ही क्यों गया की बेटा बुढ़ापे का सहारा बनेगा, बेटी नहीं ? शायद इसलिए, की यदि बेटी ने किया तो संपत्ति का बटवारा, बेटी के साथ दुसरे घर चला जायेगा.......शुरू से या भेदभाव पूर्ण व्यवहार बेटियों को सदा से ही माता पिता से दूर रखता है.... बिलकुल, बेटियों को भी घर की ज़िम्मेदारी उसी तरह उठानी चाहिए जिस तरह बेटा उठाता है.... पर अफ़सोस की समाज बेटी से करवाना ही नहीं चाहता, जिसका कारन का उल्लेख मै पहले लिख चुकी हूँ.... लेकिन यदि किसी कारन वश बेटी उस लायक नहीं है, की घर का ज़िम्मा उठा सके तो उसके प्रति पक्षपात पूर बर्ताव उचित नहीं...उसकी जगह एक बेटा भी हो सकता था, जो इस लायक नहीं है की घर का ज़िम्मा ले सके...पर वह तो पक्षपात पूर्ण व्यवहार का भागीदार नहीं होता..... मेरे ही परिवार में मेरी मौसी ने मेरी बूढी नानी का ख्याल रखा, उनका, इलाज, से लेकर तो हर चीज़ का ख्याल रखा , उन्हें आपने साथ अपने ही घर में बुढ़ापे में सहारा दिया... ३-३ मामा के होते हुए भी...लेकिन जब जायदाद बटवारा हुआ तो नानी को उनके बेटे ही याद आये... सवाल जायदाद का नहीं है... सवाल है पक्षपात पूर्ण व्यवहार का... उस सोच का है की बेटी को दिया दुसरे घर चला जायेगा.....खैर.... सारी बाते, आदमी के सोच का ही नतीजा है.... हर कुरीति गलत सोच का प्रतिफल है.... सोच बदलने में generations, लग जाती है...आज का प्रयास...हमारा क़ल सुधर सकता है.... इसलिए हमें प्रयास करते रहना चाहिए... बुत बुत धन्यवाद् लेख पढ़ कर उस पर टिपण्णी करने के लिए...

के द्वारा: abhilasha shivhare gupta abhilasha shivhare gupta

मैडम आपके ब्लॉग को देखकर जिसमें आपने शीर्षक कुछ सुझाव पत्र के रूप में दिया है...और समस्याओं का सटीक आकलन भी किया है ....मगर अफ़सोस के साथ कहना पड़ रहा है..समस्या का समाधान आपके ब्लॉग में भी नहीं है... बस एक सलाह है लोगो के सोच बदलने की....और ये सलाह मैं बचपन (जब से मैंने होश संभाला है ) से सुनता आ रहा हूँ मगर होता कुछ नहीं ... इस सोच को बदलेगा कौन?? जाहिर सी बात है इस सोच को महिलाएं ही बदल सकती हैं..... अगर महिलाएं पुरुषों के साथ कदम से कदम मिला कर चलना चाहती हैं तो उन्हें भी घरकी जिम्मेदारी उतनी ही शिद्दत से उठानी चाहिए... उस हालत में तो और भी जब की वे अपने माता पिता का एकमात्र सहारा हैं... मगर अफ़सोस के साथ सूचित करना पड़ रहा है... मैं अपनी जीवन ऐसे उदहारण बहुत कम देखा हूँ.. लगभग ना के बराबर... बहुत कहानी है लिखने को ..खैर.... KEEP BRAINWASHING OF PEOPLE, THERE IS POWER IN PEN TO CHANGE THE THOUGHT AND IDEA OF HUMAN...

के द्वारा: yogeshkumar yogeshkumar

सतीश जी, धन्यवाद् लेख पढ़ने के लिए.. यह सिर्फ अरवल समांज की समस्या नहीं है..... लगभग सभी समाजो में यह हो रहा है...दरअसल हमारे देश की विडंबना ही है, की एक समस्या का एक कारन नहीं है…कई कारन है….कही आपको एक कारन सक्रीय दिखेगा तो कही दूसरा कारण सक्रीय दिखेगा. कही दहेज़ कारन है, तो कही "बेटी पराया धन" का एहसास..... इस विश्व में सदा ही ताकतवर प्राणी ... कमज़ोर प्राणी पर हुक्म करता है... यही कारन भी हो सकता है की लोग सोचते है की, हम एक लड़की के माता-पिता बनकर क्यों कमज़ोर बने... लडके का पिता होना ही सही है..... इस मानसिकता से बहार आने के लिए, हमें लड़कियों को पढ़ा-लिखा कर इतना आगे ले जाना चाहिए की वो लड़को की बराबरी कर सके, ताकि वो कमज़ोर न बचे.... महाराष्ट्रियन परिवारों में यह स्थिति देखि जा सकती है.... जहा महिलाये शायद पुरुषो से ज्यादा आगे बढ़ रही है... इसलिए वह ऐसा कुकाम हमारे प्रदेशो की तुलना में बहुत कम है... महाराष्ट्रियन महिलय बहुत स्वव्लान्भी होती है...हमें भी हमारे परिवारों में बेटियों के self saficient बनाना बहुत ज़रूरी है .... जिस सम्माज में जो कारन सक्रीय दिखे हमें उस के हिसाब से हल धून्दना होगा.... हर जगह कारन अगल है तो हल भी अलग होगा....

के द्वारा: abhilasha shivhare gupta abhilasha shivhare gupta

नमस्कार मैडम / आपने कन्या भेद भाव के कई कारण गिनाये / पर एक मुख्य कारण से में पुरी तरह से सहमत हूँ / आज भारतीय समाज विशेषकर अग्रवाल समाज में लडकी की शादी में होने वाले खर्च जिसे लोग दहेज़ कहते हें ही एक मुख्य कारण हें कन्या के भेद भाव का / उसका दर्द वो माँ बाप समझ सकते हें जिनको अभी लडकी की शादी करनी हें / उनमें से मैं भी हो सकता हूँ / आज कोई नवयुवक न वंश की चिंता करता हें / पर जब वो बेटी के लिए योग्य वर की खोज में जाता हें तो शादी में खर्च की जाने वाली रकम सुनकर वो उस दिन को कोसता हें जब वो बेटी का बाप बना / आज मामूली से मामूली शादी में ४ से ६ लाख का खर्च आता हें / लडकी की पढाई पर अलग से खर्च होता हें / कोई मध्यम आय वाला इस खर्च को कैसे उठाता हें इसे वो ही जनता हें / आप एक डमी रिश्ता लेकर किसी के घर जाइए तो आप कोशादी में खर्च होने वाले पैसे का पता आसानी से लग जाए गा / यही कारण हें कन्या भ्रूण ह्त्या का व् भेदभाव का / आज लडकी को उसका पिटा अपने लड़कों से कहीं ज्यादा प्यार व् लायक बनाना चाहता हें पर जब शादी की बात आती हें तो खर्च देख उसकी निराशा का पता लगाया जा सकता हें / यही कारण हें की आज भारतीय समाज में विशेषकर अग्रवाल , व् अन्य समाज में लडकी की कोई चिंता नहीं होती / चिंता होती हें तो शादी में होने वाले खर्च की /

के द्वारा: satish3840 satish3840

हम  भारतियों का सबसे बड़ा दोष यह है कि दूसरों की सौ अच्छाईयों को  न देखकर, उसकी एक  बुराई की उँगुली को ही पूरा शरीर समझ  लेंगे। और अपनी एक  अच्छाई के रूमाल  से लंका सदृश्य  बुराईयों को ढ़क  देंगे। नई  नई परिभाषायें भी अपने हिसाब से गढ़ लेगें। और तर्क  तो ऐसे कि आचार्य रजनीश  भी, छोटे लगने लगें। अरे भाई एक  अच्छे प्रयास  की सराहना न  करके, उसकी कमियाँ निकाल  कर क्या साबित  करना चाहतें हैं आप? वो साबित कर चुके हैं आप, मुझसे कहीं अधिक  योग्य  हैं आप, अपनी उर्जा को नकारात्मक  कार्यों में क्यों व्यय  करते हैं आप। उर्जा आपकी मर्जी आपकी, लेकिन सलाह मेरी, जो संभवतः आपके मानने योग्य नहीं है। आप आपनी आदत से मजबूर हैं और मैं अपनी। चलो एक  खेलते हैं, क्यों न अपनी अपनी आदत बदल  लें। लेकिन उससे लाभ  क्या, स्थिति तो यथावत ही रहेगी।

के द्वारा: dineshaastik dineshaastik

मुझे आपका नाम नहीं पता ... तो संबोधन नहीं लिख सकती...... यही तो हमारे देश की विडंबना है, की एक समस्या का एक कारन नहीं है...कई कारन है.... शायद आपने पूरा लेख नहीं पढ़ा....यदि मैंने लेख मे लिखा है की "बेटिया पराया धन " होती है, यह मानसिकता बेटियों के प्रति पराया बर्ताव कराती है ....तो दूसरी तरफ मैंने यह भी लिखा है की, ससुराल में दहेज का लोभ, पराया रिश्ते का एहसास बहू के प्रति भेदभाव कराता है..दोनों ही कारण है इस समस्या के. कही आपको पहला कारन सक्रीय दिखेगा तो कही दूसरा कारण सक्रीय दिखेगा...यदि आप इस बात पर विश्वास करते है की "पुतहु प्राण के"... और यदि यह कहावत सच होती तो, शायद आज कोई भी बहु प्रताड़नाओं का शिकार नहीं होती.... स्त्री के जीवन का यही कडुआ सच, जो आमिर जी ने सामने लाने की कोशिश की है....की "लड़की न तो पिता के घर सँवारी गई न तो पति के घर"... इन सभी बातो का उल्लेख मैंने अपने लेख में भी क्या है, इसलिए आपका analysis, मुझे गलत लग रहा है.... ऐसा analysis दर्शाता है की आपने लेख पूरी तरह पढ़ा ही नहीं. उसकी गहराइयों तक आप गए ही नहीं...लेख में गहराई की ज़रुरत नहीं है...लेख पढ़ने वालो की सोच में गहराई की ज़रुरत नहीं है. रही बात आमिर जी के शो में कमियों की, तो देश के बड़े बड़े दिग्गजों ने इस शो की सराहना की है...आमिर इस शो के ज़रिये, समस्याओ से भारतियों अवगत कराना चाहते है न की आपनी प्रतिभा दिखाना चाहते है..... हम यहाँ उनके शो की तारीफ या आलोचना करने की बजाये समस्या का हल ढूंढे व लोगो को जागृत करे, वो ज्यादा फलकारी व काबिले तारीफ होगा. ....

के द्वारा: abhilasha shivhare gupta abhilasha shivhare gupta

अभी कुछ पहले मैंने माँ को कहते हुए सुना 'बेटी आन के, पुतहु प्राण के' (बेटी दूसरों की होती है, बेटे की पत्नी अपनी होती है....same thing as you said....'बेटियाँ पराया धन....') आपकी सलाह सुंदर है....लेकिन दमदार नहीं.....अभी मैं ने किसी के ब्लॉग पर कमेंट किया था (वो लेख भी इसी विषय से संबंधित था........)...... 'मुझे भी शो अच्छा लगा था….और मैं ने सराहना भी की थी….लेकिन जो कमी मुझे आमिर खान के 3 idiots मे दिखी थी वही कमी मुझे इस शो मे भी दिखी……बात अच्छी है लेकिन गहरी नहीं…..मामले को आखरी तह तक छूने की कोशशी नहीं की गई है……..' थोड़ा गहरा और जाने की जरूरत है.........विचारों को अभी सलाह मत बनाइए.....नहीं तो बाद मे बदलना मुश्किल हो जाएगा......अभी और कूदेरने की ज़रूरत है....

के द्वारा: follyofawiseman follyofawiseman

राजकमल जी..लेख पढ़ने के लिए धन्यवाद्... पर कहना चाहूंगी की, इससे लड़ना असंभव नहीं है... किसी अच्छे cause की लड़ाई लम्बी हो सकती है पर प्रतिफल में सफलता के कई कदम आगे ज़रूर बढ़ जायेंगे... सिर्फ कानून की सक्ती इंसान के अन्दर डर पैदा करेंगी , यदि इतना भी हो गया तो इसमें नियंत्रण चालू हो जायेगा और कुछ सालो बाद हम भी दुसरे उत्तरी देशों की तरह काफी हदों तक इस नासूर का इलाज कर सकेंगे...एक अच्छी नियंत्रण व्यवस्था ही काफी है..... हमारे अन्दर किसी प्रकार का डर नहीं है, इसलिए इस नासूर का इलाज नहीं हो प् रहा है...विश्वास कीजिये ये मेरा विश्वास है, की हमें सफलता ज़रूर मिलेगी..... आखिर भारत ने स्वतंत्रता की लड़ाई भी २५० सालो तक लड़ी तब जाकर भारत आज़ाद हुआ...यह लड़ाई भी लम्बी चल सकती है...पर असफल नहीं होगी.... शायद अभी के नेता गन नहीं सुधरेंगे, क्योंकि उनके हाथ इतने काले हो चुके है की उन्हें छूटने का प्रयास भी वो करेंगे तो सारा पानी ही गन्दा हो जायेगा, पर हाथ साफ़ नहीं कर पाएंगे...उन्हें राज पाठ त्यागना पड़ेगा, उन्हें जेल की हवा खानी पड़ेगी....इसलिए वो चाहकर भी प्रयास नहीं करंगे...पर इस लड़ाई के चालू होने से... जो आने वाली generations होंगी...वो सोच समझ कर ही राजनीती में आएँगी..... सिर्फ अच्छी न्याय व्यवस्था....सिर्फ....पुनः धन्यवाद्...

के द्वारा: abhilasha shivhare gupta abhilasha shivhare gupta

नमस्ते jlsingh ji ........ मैंने दोनों के पहलुओ पर प्रकाश डाला है.... एक बार ज़रा सोचिया... कानून व्यवस्थाये देश के अनुशाशन को नियंत्रित करती है या नागरिक नियंत्रित करते है ... कानून बनाये जाते है, नागरिको द्वारा किये गुनाहों पर सजा देने के लिए... यदि सजा देने वाले ही ढीले रहेंगे तो नागरिक तो गुनाह पर गुनाह करते ही जायेंगे... इसलिए पहले कानून व्यवस्था इतनी मजूत होनी चाहिए की नागरिक अपराध करने में डरे... उनके सजाए इतनी कठिन होनी चाहिए की गुनाहगार चाहकर भी, बच न पाए....तब तो हम आम नागरिक आपने गरेबान में झाँक कर देखेंगे.....और निर्णय लेंगे की हमें गलत काम नहीं करने है... यदि हमारा पिता ही व्यभिचारी हो तो वह हमें कैसे सदाचारी बनाएगा.... आपने बिलकुल सही फ़रमाया की दोनों ही पक्ष को इस बारे में सोचना ज़रूरी है... पर पहल तो कानून के रखवालो को ही करनी होगी..... क्योंकि कानून बने ही समाज के लिए है.... यदि समाज स्वयं ही अच्छा होता, जो कानून बनाये ही नहीं जाते,,, धन्यवाद्...

के द्वारा: abhilasha shivhare gupta abhilasha shivhare gupta

भयानक प्रसव पीड़ा से गुज़र कर भी बच्चे का मुह देखकर खुश हो जाती है. बच्चे की सुविधा के लिए गीले पर सोया करती है और बच्चे को सूखे बिस्तर पर सुलाया करती है . धूप में अपने अंचल को फैलाकर उसके लिए छाया करती है. रात-रात भर जाग कर उसे सुलाने कि कोशिश किया करती है.. अभिलाषा जी स्वागत है आप का इस मंच पर ..माँ पर जितना भी लिखा जाये कम है माँ ममता का सागर है उसका प्रेम बच्चे के लिए सर्वोपरि है माँ अतुलनीय है ...बहुत सुन्दर लेख आप का .. एक माँ ही माँ को अच्छे से समझ भी सकती है ...हम सब तो कल्पना ही कर सकते हैं और माँ से जो मिला है उस को आजीवन नहीं भूल सकते ..विभिन्न लोगों का आप ने उदहारण भी दिया ...सुन्दर ... भ्रमर ५

के द्वारा: surendra shukla bhramar5 surendra shukla bhramar5




latest from jagran